R11 Rheumatology treatment in Hindi, स्पोंडिलोसिस, साइटिका का इलाज

R11 Rheuma homeopathy medicine in Hindi

Reckeweg R11 Rheuma Drops in Hindi- डॉ.रेक्वेग होम्योपैथी आर.११ र्‌‍यूमा ड्रॉप्स (Rheumatology treatment-आमवात रोगों के लिए)- गठिया, स्पोंडिलोसिस (अर्थराइटिस), साइटिका का होम्योपैथी इलाज ; सुप्रसिद्ध जर्मन होम्योपैथी दवा – सुरक्षित और कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं

आर.११ मूल-तत्व:बरबेरीसD4, कैल्शियमफॉसD12, कॉस्टिकमD6, डल्कामाराD4, नक्सवोमिकाD4, रोडोडेंड्रॉनD4, रस-टॉक्सD4 ।

आर.११ लक्षण : माँसपेशियों का नया व पुराना दर्द, कमरदर्द (Lumbago meaning in Hindi) आमवात रोग की प्रवति (rheumatic diathesis meaning in Hindi), भीग जाने के दुष्प्रभाव, मोच, अधिक दबाव पड़ने के कुफल । अज्ञात उत्पत्ति वाले पीठ दर्द । माँसपेशियों एवं हडि्डयों में बढ़ता हुआ दर्द ।

भीग जाने से, ठंडी जगह पर बैठने से तथा पसीने को दबाने से हुआ कटिस्नायु शूल (Sciatica in Hindi)। पुराना धमनी सम्बन्धी आमवात (Rheumatism in Hindi), साथ में अंग-विकृतियाँ । कशेरूका संधिशोथ, कशेरुका-संधियों का प्रदाह (Spondylosis meaning in Hindi), त्रिक श्रोणि फलक सम्बन्धी (Sacroiliac) गठिया/जोड़ों का प्रदाह ।

आमवातीय (Rheumatic) दर्द (माँसपेशियों, जोड़ो, ऊतकों में) तापमान(नमी) बदलने पर बढ़ने वाला ।

R11 in Hindi, आर.११ क्रिया विधि :
बरबेरीस : कमर में निचले भाग (पुट्ठों) में तीक्ष्ण तथा अकारण होने वाला दर्द । अम्लीय मूत्र, मूत्र-पथरी ।
कैल्शियम फॉस : गर्दन और उसके साथ जुड़े हुए मेरुदंड के आसपास की माँसपेशियों की दुर्बलता, विकृत हडि्डयाँ । आमवात रोग की प्रवति (rheumatic diathesis), नम मौसम (humidity) अथवा बरसात में बढ़ने वाली । शारीरिक रचना क्रियाशील ।
कॉस्टिकम : कमर के निचले भाग (पुट्ठों) में पीड़ा विशेषकर जब उठने की कोशिश करें । गर्दन और पीठ की माँसपेशियों में पीड़ाप्रद अकड़न । तंत्रिका या नाड़ी सम्बन्धी पीड़ा । पीड़ाप्रद अकड़े हुए विकृत तथा कमजोर जोड़ ।
रोडोडेंड्रॉन : आमवात (Rheumatism), विशेषकर छोटे जोड़ों का । तूफान, बारिश तथा आँधी के पूर्व लक्षणों का बढ़ना ।
रसटॉक्स : प्रत्यंगों की स्थानच्युति, ऐसा महसूस होना, मानो कुचल गये हों, भीग जाने या पसीना दब जाने के कुपरिणाम । रात में और आराम करते समय लक्षणों में वद्धि । चलने-फिरने और गर्मी से आराम । ठंड लगने के बाद पीठ की माँसपेशियों का आमवात (Rheumatism), ठंड में तथा सुबह के समय बढ़ना। समान्यतः अत्यधिक घबराहट ।
प्रत्यंगों तथा जोड़ों में तंत्रिका सम्बन्धी आमवात, दुर्बलता एवं अकड़न, त्रिकास्थि में कँपकँपी । मौसम परिवर्तन तथा नम ठंडे मौसम में पीड़ा का बढ़ना । गर्मी से आराम । आमवाती (Rheumatic) गठिया संबंधी रोग की प्रवति, जो अक्सर ठंडी जगह पर बैठने से हो जाता है ।

आर.११ खुराक की मात्रा : तेज दर्द (कमर दर्द, सायटिका) में थोड़े पानी में प्रत्येक 1/2-1-2 घंटे पर 10 बूँद लें । सामान्यतः 1-2 दिनों में सुधार आरंभ होता है । तब प्रत्येक 1-2 घंटे पर 10 बूँदें लें तथा पूरी तरह से ठीक होने तक कुछ समय के लिए दिन में तीन बार 10-15 बूँदें लें, जिससे दोबारा तकलीफ न हो ।

पुराने माँसपेशी और जोड़ सम्बन्धी आमवात, कशेरुका संधिशोथ (Spondyloarthritis meaning in Hindi) तथा कशेरुका-संधियों के प्रदाह (Spondylosis) में सुधार होने तक दिन में 2-3 बार थोड़े पानी में 10-15 बूँदें लें । फिर थोड़े लंबे समय तक 1-2 दिनों में 10-15 बूँदें लें ।

R11 in Hindi टिप्पणी:उग्र आमवाती- बहुसंधिशोथ में R 1 तथा R 6 का प्रयोग करें । कशेरूका के अंदर स्थित चक्रों के स्थानच्युति और उसके पश्चात् सायटिका आदि होने पर लगातार तथा बारी-बारी से R 17 का भी प्रयोग करें ।

अन्तपर्शुका अथवा पसलियों के बीच तंत्रिकाशूल (Inter-costal neuralgia meaning in Hindi) में : अतिरिक्त औषधि के रूप में R 69 दें ।
श्रोणिक रोगों के कारण महिलाओं में होने वाली पीठ के त्रिकास्थि क्षेत्र में दर्द : R 50
अस्थिसंधिशोथ (osteo-arthritis meaning in Hindi) अतिरिक्त औषधि के रूप में R 73 का भी प्रयोग करें ।

जोड़ों के तीक्ष्ण आमवात में R 1 तथा R 24 देखें ।
कंधो, बाँहों और हाथों के आमवात में : R 46 देखें ।

यदि विकार के साथ अस्थि-सुषिरता(osteoporosis meaning in Hindi) भी हो, तो R 34 भी साथ में ले सकते हैं ।

आमवात के समस्त रूपों में एटोमेयर -बैकरॉन मरहम R 30 सफल सिद्ध हुई है ।

R11 मूल्य: २00 Rs (10% Off) ऑनलाइन खरीदो!!

OUTSIDE INDIA? Pay by PAYPAL here Buy Now

डॉ. रेक्वेग के अन्य थेरप्यूटिक दवाईयों की सूची

7 विचार “R11 Rheumatology treatment in Hindi, स्पोंडिलोसिस, साइटिका का इलाज&rdquo पर;

    1. आपकी स्थिति तब होती है जब नितंबों में पिरिफोर्मिस मासपेशी स्किएटिक तंत्रिका को परेशान करती है, जो आपके पैर के तंत्रिका में दर्द विकिरण पैदा कर सकता है। लोगों को दर्द आम तौर पर तब होता है जब निचला रीढ़ में तंत्रिका जड़ चिढ़ जाता है, इसे अक्सर सकीआटिका के रूप में जाना जाता है. आर७१ ड्रॉप्स और आर३० मरहम देखिये. सकीआटिका के लिए अन्य होमियोपैथी दवा सूची यहाँ पायें

      पसंद करें

    1. रात की गिरावट शरीर की कमजोरी का संकेत है, इस स्थिति को ठीक करने के लिए एक अच्छी आहार योजना, स्वास्थ्य निर्माण की खुराक और तंत्रिका टॉनिक (nervine tonic) की आवश्यकता है

      पसंद करें

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s