Reckeweg R2 Drops in Hindi, हृदय सम्बन्धी रोगों का होम्योपैथी ईलाज

Dr Reckeweg R2 Hindi Essentia aurea Gold Drops-Hriday Sambandhi Rog Ki Liye Dawai

Dr.Reckeweg R2 Essentia aurea Gold Drops for Coronary diseases in Hindi. अर.२ इसेंशिया ओरिया -गोल्ड ड्रॉप्स- ह्रदय रोग जैसे दिल की धड़कन बढ़ना, हृदयघात, ब्लॉकेज का ईलाज सर्जरी की बगैर। ह्रदय रोगों का जर्मन होम्योपैथी ईलाज

हृदय रोगों के बारे में संक्षिप्त टिप्प्णी
> कोरोनरी धमनी रोग को इस्केमिक हृदय रोग के रूप में भी जाना जाता है। यह एथोरोसक्लोरोसिस के कारण होता है, जो हृदय की आपूर्ति करने वाले रक्त वाहिकाओं के संकुचन और / या रुकावट है। यह हृदय रोग के सबसे आम रूपों में से एक है और दिल के दौरे और एनजाइना के प्रमुख कारण हैं
> जब धमनियों को संकुचित किया जाता है, तो कम रक्त और ऑक्सीजन दिल की मांसपेशियों तक पहुंच जाता है इसे कोरोनरी धमनी रोग और कोरोनरी हृदय रोग भी कहा जाता है। इससे अंततः दिल का दौरा पड़ सकता है इस्किमिया अक्सर सीने में दर्द या बेचैनी का कारण बनता है, जिसे एनजाइना पेक्टोरिस कहा जाता है
> तम्बाकू धूम्रपान के रसायन आपके रक्त कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं। वे आपके हृदय के कार्य और आपके रक्त वाहिकाओं के संरचना और कार्य को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह क्षति एथेरोस्क्लेरोसिस का खतरा बढ़ जाती है। एथ्रोस्क्लेरोसिस एक बीमारी है जिसमें धमनियों में पट्टिका नामक एक मोमी पदार्थ का निर्माण होता है।
> दिल की बीमारी के कारण रक्त उतना तेज़ नहीं होता जितना चाहिए, और ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है। दूसरी तरफ, दिल का दौरा पड़ सकता है यदि हृदय में रक्त वाहिकाओं को पट्टिका से कम कर दिया गया हो। जब रक्त वाहिकाओं को गुर्दे में अवरुद्ध कर दिया जाता है, तो इससे उच्च रक्तचाप हो सकता है और अंत में किडनी की विफलता हो सकती है

विभिन्न प्रकार की हृदय रोग निम्नानुसार हैं:
कार्डियोमोओपाथी (हृदय मांसपेशियों को नुकसान पहुँचानेवाला वाले रोग)
कोरोनरी धमनी की बीमारी
मधुमेह
हृदय वाल्वों के रोग
जन्म में मौजूद हृदय दोष
उच्च रक्त चाप
फेफड़े के रोग जैसे एफ़ीसिमा
पिछले हार्ट अटैक

मूलतत्व: अर्निका D3, ऑरम क्लोरैट D6, केक्टस D4, डिजिटैलिस D3, इग्नोशिया D6, लॉरोसेरॉसस D3, स्पाईजेलिया D3, वैलेरियाना D2, क्रैटेगस ᴓ, काली फॉस D4, एकोनाइटम D6

लक्षण: हृदय के आंगिक (organic) तथा क्रियात्मक रोग, मुख्यतः हृदय विक्षिप्ति (cardiac neurosis) । स्नायविक गड़बड़ियाँ । हृदय की तालहीन धड़कन(Arrhythmia), हृदय की तीव्र गति (tachycardia), हृदय का पूरी तरह फैलने से पहले ही सिकुड़ जाना (extrasystoles), संकुचन , हृदय-शूल , हृदय वाहिनियों की सुकड़न एवं रुकावट (Angina pectoris meaning in Hindi)। सशक्त नाड़ी , धड़कन बढ़ना , उत्तेजना , हृदय की व्याकुलता तथा घुटन , हृदय की बढ़ती हुई अनियमित ताल (vegetative dystonia)

R2 क्रिया विधि: अर्निका: हृदय में पीड़ायुक्त अनुभूति। हृदय की तंत्रिका संबंधी तकलीफ ।
ऑरम क्लोरैट: हृदय की माँसपेशियों (myocardium meaning in Hindi), बड़ी धमनी (arota meaning in Hindi) तथा परिहृदय (coronary meaning in Hindi) धमनी पर प्रभावी क्रिया करती है । हृदरोध तथा हृदय का फैलाव सिर की ओर रक्त का अधिक बहाव, हृदयावरंणीय पीड़ा ।
केक्टस: घुटन की अनुभूति , सशक्त नाड़ी , अवसाद । हृत्संकीर्णता (Stenocardia meaning in Hindi) तथा हृद शूल (angina-pectoris meaning in Hindi).
क्रैटेगस: हृदय एवं रक्त संचरण के लिए उत्कृष्ट बलवर्द्धक औषधी । हृत्पेशियों की दुर्बलता तथा अल्पंतनाव ।
डिजिटैलिस : हृदय की दुर्बलता की स्थिति में हृदय संबंधी बलवर्धक औषधि । व्याकुलता तथा चिड़चिड़ेपन के साथ हृदय विक्षिप्ति (Cardiac neurosis meaning in Hindi) , सशक्त नाड़ी ।
इग्नोशिया: हृदय की विभिन्न नाड़ी संबंदी अनुभूतियाँ, मुख्यतः विषादमय प्रकृति, अधीरता, बैचेनी के रोगों के बाद । सर्वांगीण तंत्रिका संबंधी चिड़चिड़ापन तथा अनिद्रा रोग मेभी ।
काली फॉस: सर्वांगीण नाड़ी सम्बन्धी थकान रक्तहीनता तथा हृत्पेशियों की दुर्बलता । संचार अवरोध (conduction disturbances) ।
लॉरोसेरासस: हृत्पेशियों की (myocardial) अपर्याप्त अवस्था के साथ शरीर नीला पड़ना या श्यामता (cyanosis) । छाती में दबाव और पीड़ा ।
स्पाइजेलिया: सशक्त तथा असामान्य नाड़ी जो दिखाई भी देती है और महसूस भी होती है । बायीं बाँह में नीचे तक फैलता दर्द ।
वैलेरियाना: तंत्रिका सम्बन्धी व्याकुलता, शारीरिक द्रव्यों की परिवर्तनशीलता, तंत्रिका सम्बन्धी अति-संवेदनशीलता । हृदय पर क्रियात्मक प्रभाव , सशक्त नाड़ी, हृदय सम्बन्धी घबराहट ।

R2 खुराक की मात्रा: गंभीरता के आधार पर प्रारंभ में थोड़े पानी में 10-15 बूँदें प्रतिदिन 3-6 बार लें । हृदय के तीक्ष्ण रोग में सुधार शुरू होने तक प्रत्येक 1/4 – 1/2 घंटे पर 10-15 बूँदें लें ।

R2 मूल्य: २00 Rs (10% Off) ऑनलाइन खरीदो!!

OUTSIDE INDIA Pay Via PaypalBuy Now

हृदय रोगों के लक्षण होम्योपैथी दिल की दवा
दिल की बीमारी के कारण उंगलियों नीला होना, उच्च रक्तचाप के साथ हार्ट वेंट्रिकल ग्रंथित और वितरित, सामान्य दिल का अतिपरिवर्तन, दिल की परेशानी के कारण घबराहट, दिल क्षेत्र में दर्द, ताकायर्यर्थिमिया (बढ़ी और अनियमित हृदय की धड़कन), हृदय की शिरापरक स्थिरीयता श्वाबे इसेंशिया औरिया गोल्ड ड्रॉप्स
दिल की कमजोरी के कारण दीनता, फैटी पतन, हाइपोटेंशन के साथ हृदय की कमजोरी श्वाबी एंजियोटोन
रजोनिवृत्ति के कारण दम घुटना कलाईमकटोलन
दिल की बूढ़ा समस्याओं, वृद्ध लोगों में हृदय की कमजोरी क्रेटेगस पेंटार्कन
दिल की अत्यधिक संचय, हाइपोटेंशन के साथ हृदय की कमजोरी, कमजोर दिल के साथ उच्च रक्तचाप विस्कम पेंटारकन
यात्रा के दौरान ईर्ष्या अल्फा-एमएस
अपच के साथ असंतोष (heartburn) अल्फा एसिड
कार्डिएक न्यूरोसिस, (हृदय की विचित्र स्थिति) डॉ। रेकेजेग आर 22 बूंदें
दिल की बीमारियों के लिए बॉक्सन कार्ड ऐड ड्रॉप्स, डॉ। बाक्षी का बी4 ड्रॉप्स, एसबीएल टोनिकार्ड गोल्ड ड्राप्स, लसिट -३६९ 
रक्त परिसंचरण में सुधार, हृदय टॉनिक  सर्कुलैफोर्स डार्प्स (ब्लूओम 7), हार्ट केयर गोल्ड ड्रॉप्स (ब्लूउम 17)
अनियमित दिल धड़कन (बीट्स) एडेल 43 कार्डिनोरमा ड्रॉप
दिल के दौरे के बाद रोकथाम और अनुवर्ती उपचार एडेल ५४ कँगुस्ट ड्रॉप्स
दिल और संचार संबंधी शिकायतों के लिए एडेल नियो कार्ड गोल्ड ड्राप्स 
रक्त घनास्त्रता (मस्तिष्क और हृदय) हस्लाव एचसी -84 बरैटा
हार्ट टोनर टॉनिक डोलियोसिस डी 21 ड्रॉप
दिल की मांसपेशियों और हृदय संबंधी घबराहट को मजबूत करता है डोलियोसिस डी एस 22 कार्डिटोन बूँदें
दिल पर अच्छा प्रभाव डालके और हृदय की मांसपेशियों को बढ़ाकर सामान्य रक्तचाप बनाए रखता है लॉर्ड्स बी पी फोर्ट ड्राप्स
धमनी रोग, आर्टेरोसेक्लोरोसिस, माईकार्डिटिस, अर्ली कंजेस्टिव हार्ट डिजीज, कार्डियक ड्रॉप्सी, डिस्पनिया, कार्डियक एंग्जायटी, पाल्पाइटेशन लॉर्ड कार्डोलिन गोल्ड ड्रॉप्स
निम्न रक्तचाप, हृदय की सम्मोहन, परिसंचरण संबंधी गड़बड़ी भार्गवा मिनिमस नः17 नोमिन-एल ड्रॉप्स
पूर्ण हृदय की देखभाल, एंजिन पेक्टोरिस, म्योकार्डिअल इन्फर्क्शन और हाइपरटेंशन,  दिल का आकार में इज़ाफ़ा एंड कार्डियो मायोपैथी, कोरोनीरी धमनियों का रुकावट व्हीजल कार्डियंट गोल्ड ड्रॉप्स
विषाक्त छाती के दर्द, स्तन दर्द (एनजाइना पेक्टोरिस), कम बीपी के कारण कार्डियक कमजोरी, इस्केमिक हार्ट आदि सारदा होमियो लेबोरेटरी कॉर्डोटोन

 

डॉ. रेक्वेग के अन्य थेरप्यूटिक दवाईयों की सूची

टिप्प्णी: हृत्पेशियों की हल्की से मध्यम अंश तक की अपर्याप्त स्थिति में R3 प्रयोग करें। उदर एवं हृदय सम्बन्धी रोगों में अतिरिक्त औषधि के रूप में R5 भोजन के पहले या बाद में प्रतिदिन 10-15 बूँदें 1-3 बार प्रयोग करें। हृदय सम्बन्धी अनियमित धड़कन में: R 66 या R 22 तीक्ष्ण हृत्पेशियों (myocardial infarct)के रोधगलन में : प्रत्येक 1/2-1-2 घण्टे पर बारीबारी से 10 15 बूँदें: R2, R 67 तथा R 55 की लें । तदुपरान्त R 3 के साथ और बाद में R 44 के साथ उपचार जारी रखें ।

4 विचार “Reckeweg R2 Drops in Hindi, हृदय सम्बन्धी रोगों का होम्योपैथी ईलाज&rdquo पर;

  1. मै ने ह्रदय मे रिन्ग ईसटैन्ड 5 वर्ष पूर्व करवाया था कायॅ करने पर दर्द होता था मुझे diacard gold drops दिया गया है क्या ईस से नस फिर से खुल सकती है ऊत्तर देने की कृपा करे

    पसंद करें

अखलास अहमद खान को एक उत्तर दें जवाब रद्द करें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s