डॉ.रेकवेग R66 Cardiac Arrhythmia medicine अनियमित ह्रदय गति के लिए

R66 medicine in Hindi for irregular heart beats, cardiac arrhythmia

अनियमित ह्रदय गति या हार्ट एरिथिमिया के बारे में संक्षिप्त जानकारी
हार्ट एरिथिमिया, जिसे अनियमित दिल की धड़कन या कार्डियक डिसारिथमिया भी कहा जाता है, उन स्थितियों का एक समूह है जहां दिल की धड़कन अनियमित, बहुत धीमी या बहुत तेज़ है। कार्डियाक एरिथिमिया तब होता है जब दिल में विद्युत आवेग ठीक से काम नहीं करते हैं। इस स्तिथि का कोई लक्षण नहीं हो सकता है। वैकल्पिक लक्षणों के रूप में छाती फड़फड़ाना , झुकाव या दिल की धड़कन के बीच एक विराम महसूस हो सकता है। सीने में दर्द, सर भारी होना या चक्कर आना भी शामिल है । निचले कक्षों (वेंट्रिकुलर टैचिर्डिया या वेंट्रिकुलर फाइब्रिलेशन) से आने वाली असामान्य तेज़ ताल, जीवन खतरनाक हो सकती है और अचानक कार्डियक गिरफ्तारी ( अरेस्ट ) का कारण बन सकती है। यदि आवश्यक हो, उपचार में एंटी-एरिथमिक दवाएं, चिकित्सा प्रक्रियाएं, प्रत्यारोपण योग्य उपकरण और सर्जरी शामिल है।

R66 drops in Hindi indications लक्षण : ह्रदय के अपजनन सम्बन्धी रोग उपरान्त, ह्रदय की ताल तथा संवहन के विकार, मायोकार्डाइटिस (Mycarditis) और एन्डोकॉर्डाइटिस (Endocarditis) के बाद की ह्रदय स्थिति, ह्रदयाघात के पश्चात, सामान्य से अधिक धड़कन, ह्रदय कमजोर पड़ना, एडम स्टोक्स सिन्ड्रोम (Adamstokes Syndrome)।

मूल-तत्व: ऐम्मि विश. D2, आईबेरिस अमारा D3, लियोनुरस कार्डियाका D2, ओलियन्डर D3, स्पार्टियम स्कोपरियम D2, सम्बुलस मोस्केटस D2.

क्रिया विधि : प्रत्येक घटक दवा एक दूसरे की पूरक है तथा उनकी ह्रदय की माँसपेशियों एवं ह्रदय के संवहन पर विशिष्ट प्रक्रिया होती है।
ह्रदय धमनी (Coronory) रक्त प्रवाह को बढ़ाती है, फलस्वरूप ह्रदय की माँसपेशियों में ऑक्सीजन की पूर्ति में सुधार होता है।
आईबेरिस अमारा : तनिक भी कार्य करने से धड़कन बढ़ना, दिल में दर्द होने के साथ अलिन्दी (Atrial) फड़फड़ाहट तथा अनियमित नाड़ी, स्नायविक उत्तेजना।
लियोनुरस कार्ड. : शांतिदायक प्रभाव द्वारा ह्रदय की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करती हैं।
ओलियन्डर : तेज धड़कन तथा ह्रदय में चाकू घोंप दिए जाने जैसा दर्द, दिल की धड़कन का बढ़ना, फिर कम होना; कभी कभी नब्ज लुप्त हो जाना। ह्रदय धमनी (Coronory) में रक्त प्रवाह बढ़ाती हैं, तत्पश्चात ह्रदय की माँसपेशियों के प्रति ऑक्सीजन की पूर्ति सुधारती है।
सम्बुलस मोस्केटस : हल्का सा परिश्रम करते ही ह्रदय की धड़कन अत्यधिक तेज हो जाती है, धड़कन गुम होना या अनियमित होना।
स्पार्टियम स्कोपर : तेज़ अनियमित धड़कन, ज्यादातर लुप्त नाड़ी भी।

R66 drops खुराक की मात्रा : तीव्र स्थितियों में लगातार १/४ से १ घंटे पर १० बूँदें पानी में लें। स्वस्थ होने के लिए (लंबे उपचार के लिए) प्रतिदिन ३ बार भोजन के पूर्व १०-१५ बूँदें लें।

टिप्पणी : तीव्र (Acute) ह्रदय की माँसपेशियों का प्रदाह तथा ह्रदय की अंदरूनी पेशियों के प्रदाह में : R22 से तुलना करें।
हृत्पेशीयों सम्बन्धी कमी तथा हृत्पेशीयों सम्बन्धी विघटन : R3 से तुलना करें।
दिल के दर्द में : R2 से तुलना करें।
हृत्पेशीयों का अंदरूनी भाग गल जाने पर : R67 तथा R55
क्षतिआपूर्ति न होने वाले ह्रदय की अवस्था में : R58 से तुलना करें।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s